अर्नेस्तो कार्देनाल की कविताओं का अनुवाद

मै तुम्हे ये कवितायेँ देता हूँ :अर्नेस्तो कार्देनाल
अनुवाद -नरेन्द्र जैन -अंततः :कविता का सिलसिला

दूसरी किश्त

हमारी कवितायेँ
फिलहाल प्रकाशित नहीं हो सकतीं
वे हाथों हाथ प्रसारित होती हैं
पांडुलिपि या उनकी प्रतियाँ
लेकिन एक दिन लोग
उस तानाशाह का नाम भूल जाएंगे
जिसके ख़िलाफ़ ये लिखी गईं थीं
और
कवितायेँ ,पढी जाती रहेंगी !!

2.
हो सकता है इस साल
हम विवाह कर लें मेरे प्यार
और शायद हमें छोटा सा घर मिल जाए
और हो सकता है मेरी कविता पुस्तक
प्रकाशित हो जाए
या हम दोनों विदेश यात्रा पर निकल पड़ें
हो सकता है मेरे प्यार
की इस साल सोमोज़ा का पतन हो जाए !!

टिप्पणियाँ

  1. बढ़िया अनुवाद हैं ये नरेंद्र जी के !
    कार्देनाल तो महान हैं ही.

    अमित इन्हें पढ़वाते रहने का शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अर्नेस्तो कार्देनाल के काव्य को जितना समझा उसका सारांश :
    अगर रख सको तो एक निशानी हूँ मैं, खो दो तो सिर्फ एक कहानी हूँ मैं , रोक पाए न जिसको ये सारी दुनिया, वोह एक बूँद आँख का पानी हूँ मैं..... सबको प्यार देने की आदत है हमें, अपनी अलग पहचान बनाने की आदत है हमे, कितना भी गहरा जख्म दे कोई, उतना ही ज्यादा मुस्कराने की आदत है हमें... इस अजनबी दुनिया में अकेला ख्वाब हूँ मैं, सवालो से खफा छोटा सा जवाब हूँ मैं, जो समझ न सके मुझे, उनके लिए "कौन" जो समझ गए उनके लिए.......

    उत्तर देंहटाएं
  3. very good lines!!!!!! thanx! for sharing its with us,keep up the good work!! cheers!

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बाहर मै ... मै अंदर ...

बाज़ार